More

    Latest Posts

    Speech On Independence Day 2022 : बच्चों के लिए 15 अगस्त पर छोटा और सरल भाषण

    Speech On Independence Day 2022 : 15 अगस्त का शुभ दिन भारत के रीजनीतिक इतिहास में सबसे ज्यादा अहमियत रखता है। यही वह दिन है जब देश को अंग्रेजों की 200 सालों की गुलामी की बेड़ियों से मुक्ति मिली थी। यह दिन उन महान क्रांतिकारियों और स्वतंत्रता सेनानियों के बलिदान को याद करने का भी है जिन्होंने देश को आजादी दिलाने के लिए अपना सब कुछ दांव पर लगा दिया। स्वतंत्रता दिवस पर स्कूलों, सरकारी और निजी कार्यालयों में  स्वतंत्रता सेनानियों को श्रद्धांजलि दी जाती है और तिरंगा झंडा फहराया जाता है। स्वतंत्रता दिवस के नजदीक आने पर अकसर शिक्षकों द्वारा छात्रों को भाषण या निबंध ( 15 august speech in hindi ) तैयार करने के लिए कहा जाता है। ऐसे में आजकल स्कूलों के लाखों बच्चे 15 अगस्त पर भाषण की तैयारी में जुटे होंगे। यहां से आइडिया लेकर आप स्कूली छात्रों के लिए 15 अगस्त पर भाषण तैयार कर सकते हैं। 

    स्वतंत्रता दिवस पर भाषण ( Independence Day Speech In Hindi )

    आदरणीय प्राधानाचार्य ,शिक्षकगण, यहां उपस्थित सभी अतिथि महोदय और मेरे सभी प्यारे मित्रों… 
    आज हम यहां देश का 76वां स्वतंत्रता दिवस मनाने के जुटे हैं। पूरा देश आजादी की सालगिरह के जश्न में डूबा है। मैं भी आप सभी को देश की आजादी की वर्षगांठ की बहुत बहुत बधाई देता हूं। साथ ही आप सभी का धन्यवाद करता हूं कि अपने मुझे मेरे विचार अपने समक्ष रखने का अवसर दिया। 

    15 अगस्त, 1947 ! यह वो दिन है जब हमारे देश को अंग्रेजों की 200 साल की गुलामी से आजादी मिली थी। 
    ब्रिटिश राज में देश की जनता पर काफी अत्याचार किए गए। ब्रिटिश हुकूमत के जुल्मों से देश की जनता को छुटकारा दिलाने के लिए सैंकड़ों स्वतंत्रता सेनानियों ने अपने प्राणों की आहुति दे दी।  देश को आजाद कराने में महात्मा गांधी, सुभाष चंद्र बोस, भगत सिंह, मंगल पाण्डे, ,राजगुरु, सुखदेव, जवाहरलाल नेहरु, लाला लाजपत राय, बाल गंगाधर तिलक जैसे कई क्रांतिकारियों और स्वतंत्रता सेनानियों का अहम योगदान रहा। यह दिन इन सभी क्रांतिकारियों और स्वतंत्रता सेनानियों को नमन करने और श्रद्धांजलि देने का दिन है। 

    वैसे तो आज के दिन देश का हर क्षेत्र राष्ट्रीय ध्वज तिरंगे से भरा दिखता है लेकिन राष्ट्रीय स्तर पर मुख्य कार्यक्रम दिल्ली के लाल किले पर होता है। स्वतंत्रता दिवस पर देश के प्रधानमंत्री लाल किले की प्राचीर से जनता का अभिवादन स्वीकार करते हैं और राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा फहराते है। 31 तोपों की सलामी दी जाती है। 
    इसके बाद वह देश को संबोधित करते हैं। प्रधानमंत्री के भाषण को सुनने के लिए सुबह से ही लाल किले पर लोग पहुंचना शुरू कर देते हैं। प्रधानमंत्री अपने भाषणा में भावी योजनाओं के बारे में बताते हैं और देश की उपलब्धियों का भी जिक्र करते हैं।

    कार्यक्र में सेनाओं की टुकड़ियां प्रधानमंत्री को सलामी देते हैं। सेना के बैंडों की धुन सुनने लायक होती है और मन को मोह लेती है। 

    साथियों! 15 अगस्त हर साल आता है और हमारे दिलोदिमाग में ‘हम स्वतंत्र हैं और स्वतंत्र रहेंगे’ का भाव जागृत कर चला जता है। यह सबसे बड़ा राष्ट्रीय पर्व राष्ट्र और राष्ट्रीयता की हलचल पैदा कर जाता है। वर्ष में राष्ट्र ने क्या खोया और क्या पाया का हिसाब बता जाता है। भारतमाता और भारत की स्वतंत्र सत्ता के लिए कर्तव्य का भाव जगा जाता है। 

    आइए हम राष्ट्र ध्वज को नमन करें। राष्ट्र के कल्याण के प्रति अपने संकल्प को दोहराएं। देश के विकास व सुरक्षा और देशवासियों के कल्याण के प्रति हमेशा समर्पित रहने की प्रतिज्ञा लें। 

    आप सभी को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं ! जय हिन्द ! जय भारत !

    Latest Posts

    Don't Miss