More

    Latest Posts

    लॉकडाउन में नौकरी छूटने के बाद दो दोस्त ने शुरू किया मांस का कारोबार, दो साल बाद 10 करोड़ में बेच दी कंपनी

    Success Story: कोरोनावायरस का प्रकोप फैलने के बाद देश भर में लॉकडाउन लगने के साथ दो पुराने दोस्तों आकाश म्हास्के और आदित्य कीर्तने का करियर भी संकट में पड़ गया था। आकाश और आदित्य इंजीनियर के तौर पर एक कंपनी में काम कर रहे थे कि कोविड महामारी ने उनके जीवन की दिशा ही बदल दी। लॉकडाउन का पहला महीना तो उन्होंने फिल्में देखकर गुजार लिया था लेकिन बंदी की स्थिति जारी रहने पर उनकी नौकरी ही चली गई।

    खुद का शुरू किया बिजनेस
    औरंगाबाद के आसपास अनेक औद्योगिक यूनिट हैं और दोनों किसी अन्य कंपनी में अपनी किस्मत आजमा सकते थे। लेकिन उन्होंने नौकरियों के लिए आवेदन करने के बजाय खुद का काम शुरू करने का फैसला किया। उन्होंने सफल कारोबारी बनने के गुर बताने वाली कुछ किताबें पढ़ने के बाद इस दिशा में अपना इरादा पक्का कर लिया। लेकिन वे यह नहीं सोच पा रहे थे कि काम क्या करें।

    यह भी पढ़ें- 631% चढ़ गया 119 रुपये का यह शेयर, पैसे लगाने वालों को 7 महीने में ही ₹7.31 का मुनाफा

    परिवार का नहीं मिला सपोर्ट
    शुरुआत एक स्थानीय विश्वविद्यालय में मांस और पॉल्ट्री प्रोसेसिंग  के साथ उन्होंने मांस के असंगठित बाजार में घुसने का मन बनाया। दोनों को शुरू में उनके परिवारों से पूरा समर्थन भी नहीं मिला।
    आदित्य ने पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘हमारे परिवारों को शुरू में लगा कि हम जिस तरह का काम कर रहे हैं उसमें कोई अपनी लड़की की शादी नहीं करना चाहेगा। लेकिन बाद में हमारे परिवार के लोग साथ में खड़े रहे।’’

    ‘एपेटाइटी’ नाम की है कंपनी
    उन्होंने 100 वर्गफुट क्षेत्र में अपने दोस्तों की मदद से जमा किए गए 25,000 रुपये के फंड से ‘एपेटाइटी’ नामक कंपनी शुरू की जिसका एक महीने का कारोबार अब चार लाख रुपये महीने से ज्यादा हो चुका है। 
    दोनों का कारोबार धीरे-धीरे बढ़ने लगा था। इसी दौरान शहर की ही एक कंपनी फैबी कॉर्पोरेशन की नजर उन पर पड़ गयी।

    यह भी पढ़ें- ₹102 से 2,205 रुपये पर पहुंच गया इस कंपनी का शेयर, सालभर में निवेशकों को छप्परफाड़ रिटर्न

    फैबी ने खरीदी हिस्सेदारी
    फैबी ने हाल ही में एपेटाइटी की बहुलांश हिस्सेदारी 10 करोड़ रुपये में खरीद ली है। हालांकि आदित्य और आकाश कुछ हिस्सेदारी के साथ अब भी इसके साथ जुड़े रहेंगे।
    फैबी के निदेशक फहाद सैयद ने कहा कि सौदे के बाद ‘एपेटाइटी’ ब्रांड बरकार रहेगा और इसके बैनर तले ही नये उत्पाद पेश किए जाएंगे।

    Latest Posts

    Don't Miss