More

    Latest Posts

    आर्थिक मोर्चे पर बुरी खबर, IMF ने जीडीपी ग्रोथ अनुमान पर चलाई कैंची

    इकोनॉमी के मोर्चे पर एक बुरी खबर है। दरअसल, अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) ने देश की जीडीपी ग्रोथ अनुमान को कम कर दिया है। आईएमएफ ने चालू वित्त वर्ष के लिए अप्रैल माह में 8.2 फीसदी का अनुमान जताया था, जो अब घटाकर 7.4% कर दिया है।

    इस लिहाज से देखें तो 0.8% की कटौती की गई है। हाल ही में एशियाई विकास बैंक ने भारत के लिए अपने 2022-23 के विकास अनुमान को 7.5% से घटाकर 7.2% कर दिया है। वहीं, भारतीय रिजर्व बैंक ने 2022-23 के लिए 7.2% की आर्थिक वृद्धि का अनुमान लगाया है। 

    फिर भी एक अच्छी खबर: विकास पूर्वानुमान में गिरावट के बावजूद, भारत 2022-23 और 2023-24 में दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में से एक बना रहेगा। आईएमएफ के मुताबिक 2022 में चीन की विकास दर धीमी होकर 3.3% रहने का अनुमान है, जो पहले 4.4% अनुमानित थी।  

    आईएमएफ ने कहा कि मुद्रास्फीति पर काबू पाना भारत के नीति निर्माताओं के लिए पहली प्राथमिकता होनी चाहिए। आईएमएफ के मुताबिक वित्त वर्ष 2023-24 के लिए भारत की जीडीपी ग्रोथ अनुमान को 0.8 प्रतिशत घटाकर 6.1% कर दिया है।

    आईएमएफ ने कहा कि 2021 में एक अस्थायी वैश्विक सुधार के बाद 2022 में सुस्ती रही। वैश्विक स्तर पर यूक्रेन-रूस जंग समेत अर्थव्यवस्था को कई झटके लगे, जिसमें दुनियाभर में उम्मीद से अधिक महंगाई हो गई है।

    Latest Posts

    Don't Miss